1. हम बोलने और सुनने की कला पर ध्यान देते हैं। हम यह मानकर चलते हैं कि एक बार आप अच्छी तरह बोलना सीख जाएँ तो इससे आपके लेखन कौशल में बहुत सुधार होता है।
  2. हमारी कक्षाओं में केवल 4 – 8 छात्र होने के कारण हम उनपर अधिक ध्यान दे पाते हैं और भाषा को बेहतर ढंग से सीखने में अपने छात्रों की सहायता कर पाते हैं।
  3. हम आपको अवसर देते हैं कि आप भाषा को जानकर स्वयं सीखें। इससे सीखने की प्रक्रिया रोचक बनी रहती है और आप न केवल जल्दी सीखते हैं बल्कि सीखी हुई बातों को लम्बे समय तक याद भी रख पाते हैं।
  4. हमारी विश्वास है कि आप भाषा को जितना अधिक बोलेंगे और सुनेंगे उतना ही अधिक सीखेंगे। यही कारण है कि आपको पहले ही दिन से कक्षा में बोलने का मौका दिया जाता है। इस प्रकार आप बढ़े हुए आत्मविश्वास के साथ कक्षा से बाहर निकलते हैं।
  5. कक्षा खत्म हो जाने के बाद आप सेंटर में ही रहकर दूसरे छात्रों के साथ चर्चा कर सकते हैं और सीखी हुई बातों का अभ्यास कर सकते हैं।
  6. आप अंग्रेज़ी भाषा को वैसे ही सीखते हैं जैसे आप ने अपनी मातृभाषा सीखी है। आप किसी बात को अंग्रेज़ी भाषा में सुनते हैं और अंग्रेज़ी भाषा में ही उसका जवाब देते हैं। इस प्रकार आप अंग्रेज़ी भाषा सीख जाते हैं। यानी, हम आपको अनुवाद के माध्यम से भाषा नहीं सिखाते।